SpaceX’s Star link company joins hands with Google, now satellite will get high speed internet and secure connection | स्पेसएक्स की स्टारलिंक कंपनी ने गूगल से मिलाया हाथ ,अब सेटेलाइट से  हाई स्पीड इंटरनेट और सिक्योर कनेक्शन मिलेगा



  • Hindi News
  • Tech auto
  • SpaceX’s Star Link Company Joins Hands With Google, Now Satellite Will Get High Speed Internet And Secure Connection

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्लीएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एलन मस्क इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला के सीईओ हैं। यह दुनिया के दूसरे सबसे अमीर आदमी हैं। इनकी सैटेलाइट से इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनी स्पेसएक्स है। जिसे स्टारलिंक कहा जाता है। स्टारलिंक ने भारत में फरवरी में ही हाई-स्पीड इंटरनेट सर्विस ‘स्टारलिंक’ की प्री-बुकिंग शुरू कर दी थी। अब इसमें काम करने के लिए कंपनी ने गूगल से पार्टनरशिप की है। जिससे उसके काम और तेजी आएगी। स्टारलिंक प्रोजेक्ट में कंपनी सेटेलाइट से काम करती है।जिससे ये दुनिया के किसी भी कोने में इंटरनेट सर्विस देना आसान होता है। कंपनी का दावा है कि स्टारलिंक के दुनिया भर में 10,000 से ज्यादा एक्टिव यूजर्स हैं।

गूगल की पार्टनरशिप के मायने

गूगल का हाई कैपेसिटी प्राइवेट नेटवर्क स्टारलिंक के ग्लोबल सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस को सपोर्ट करता है। जिससे कस्टमर को बिना किसी रुकावट के हाई स्पीड के साथ इंटरनेट मिलेगा। इसमें ग्लोबल ऑर्गेनाइजेशन के साथ सिक्योर कनेक्शन का इंफ्रास्ट्रक्चर बनाया गया है। जो आज के मार्डन ऑर्गेनाइजेशन की मांग भी है। 1500 स्टारलिंक सैटेलाइट को गूगल क्लाउड के ऑर्बिट में लॉन्च किया है।

दूसरे सैटेलाइट की तुलना में पृथ्वी के नजदीक है स्टारलिंक सैटेलाइट

स्पेसएक्स ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है कि ‘ऐसे समय में जब ज्यादातर लोग घर से काम कर रहे हैं और अधिक स्टूडेंट्स वर्चुअल लर्निंग में हिस्सा ले रहे हैं, इंटरनेट कनेक्टिविटी पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। स्पेसएक्स ने सोशल मीडिया पर लिखा था कि ‘स्टारलिंक सैटेलाइट, दूसरे सैटेलाइट की तुलना में पृथ्वी से 60 गुना अधिक पास है।

भारत में फरवरी से ही शुरु है प्री बुकिंग

भारत में इसकी फरवरी से ही प्री बुकिंग हो रही है। स्टारलिंक वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, स्टारलिंक इंटरनेट साल 2022 में भारत में शुरू होगी, हालांकि ये बढ़ भी सकता है। फिलहाल सर्विस टेस्टिंग फेज में है। प्री-ऑर्डर के दौरान यह देखने में आया है कि सर्विस दिल्ली, बेंगलुरु, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता और हैदराबाद जैसे प्रमुख शहरों को कवर करेगी। हालांकि, कवरेज डिटेल के बारे में फिलहाल कोई सटीक जानकारी नहीं दी गई है। ऐसे में यूजर को बुकिंग करते समय यह चेक करना होगा कि उनके क्षेत्र में सर्विस मिलेगी या नहीं।

यूजर्स को मिलेगी 150 Mbps तक की स्पीड

साइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, स्टारलिंक प्रोजेक्ट के लिए स्पेसएक्स पहले ही एक हजार से ज्यादा सैटेलाइट लॉन्च कर चुकी है। वर्तमान में स्टारलिंक 50-150 Mbps तक की इंटरनेट स्पीड प्रदान करती है। एलन मस्क ने कहा था कि हमारा लक्ष्य भविष्य में 12 हजार सैटेलाइट का नेटवर्क तैयार कर स्पीड को 1 Gbps तक पहुंचाने का है।

जियो से होगी स्पेसएक्स की टक्कर

भारत के टेलीकॉम सेक्टर पर फिलहाल रिलायंस जियो का कब्जा है। जियो 65 करोड़ इंटरनेट यूजर ऐसे हैं, जो हर महीने औसतन 12 जीबी डेटा इस्तेमाल करते हैं। बावजूद भारत के कई ग्रामीण हिस्सों में अभी भी लोग खराब इंटरनेट स्पीड से जूझ रहे हैं। मस्क का टारगेट इन्हीं एरिया में इंटरनेट स्पीड को बढ़ाना है। स्टारलिंक की वेबसाइट के मुताबिक, वह यूजर्स का डेटा जैसे आइडेंटिटी, कॉन्टैक्ट, प्रोफाइल और फाइनेंशियल डेटा इकट्ठा करती है। इसके साथ ही साइट में यह भी बताया गया है कि वह यूजर्स की पर्सनल डिटेल्स को सुरक्षित रखने के तमाम उपाय भी करती है।

खबरें और भी हैं…



Source link